Inspirational Story For Students- सफलता

नमस्कार दोस्तों, मैं हूं सौरभ , आज मैं आपको एक ऐसी कहानी बताने जा रहा हूं, जो आपके छात्र जीवन में कुछ बदलाव ला सकती है। चाहे आप एक डॉक्टर बनना चाहते हैं या एक अधिकारी …… यदि आप कुछ भी करना चाहते हैं

विकाश और रमेशअच्छे दोस्त थे। कुछ समय पहले, उनके पिता एक अच्छे शहर में बैंक की नौकरी करते थे। और दोनों पड़ोस में रहते थे। दोनों को शहर के एक अच्छे स्कूल में भर्ती कराया गया। विकाश और रमेश दोनों दोस्त थे लेकिन उनकी आदतों में बड़ा अंतर था।

विकाश हमेशा अपनी पढ़ाई को लेकर बहुत गंभीर रहते थे, इसलिए वह पढ़ाई पर बहुत ध्यान देते थे। और जब वह घर आता था, तब वह घर के कामों में मदद करता था

लेकिन रमेश को पढ़ाई में ज्दियदा दिलचस्लपी नही  थी, अपने स्कूल के बाकी दिन वह खेलने, दोस्तों के साथ बातचीत, movie देखेने ,घूमने और खाली बैठने में बिताता था।

‘रमेशऔर उसके दोस्तों ने विकाश का मजाक बनाना शुरू कर दिया। कभी-कभी विकाश का मज़ाक उड़ाते हुए वे कहते थे कि “यह हमेशा या तो पढ़ता रहता है या किसी और काम में लगा रहता है.  अबे! यही सब करे गा तो enjoy कब करे गा। “लेकिन रमेश उनकी बातो को अनसुना कर देता या कभी कभी समझाने की कोशिश करता  , लेकिन उसे भी अपना करियर बनाना था लेकिन रमेशऔर उसके दोस्त उस पर हंसते थे और कहते थे,” अबे! अभी संघर्ष करने से क्या होगा। यह उम्र तो मौज मस्ती की है, अभी नही करो गे तो कब करो गे, या बूढ़े होकर क्या करेंगे।  बाद में नौकरी तो हम सब को करनी होगी। फिर तो जीवन नौकरी ही करनी है।

लेकिन इन सबके बावजूद विकाश ने उन्हें समझाने के अलावा कुछ नहीं कहा।

जैसे-जैसे समय बीतता गया, दोनों की पढाई पूरी हो गई । लेकिन कुछ दिनों के बाद, दोनों के पिता हा ट्रांसफर हो गया । कुछ ही दिनों में दोनों एक-दूसरे को भूल गए थे।

कई साल बाद एक घटना घटी। एक युवक ने मुंबई में एक बहुत बड़ी कंपनी (JFS) में कदम रखा। आज  उसका  इंटरव्यू  था।

जैसे ही उन्हें बुलाया गया, वह इंटरव्यू  रूम  में  चला गया । कमरे में आते ही उसने कमरे में प्रवेश किया। उसके सामने लगभग 10 लोग बैठे थे। ठीक बीच में एक बड़ी कुर्सी अपने फ्रेंड्स को सफेद कोट पहने हुए देखकर, युवक ने कहा, “अरे! विकाश! तुम यहां क्या कर रहे हैं? क्या तुम इंटरव्यू देने आये ? सफेद कोट में बैठे विकाश ने कहा, “ओह! क्या तुम रमेश हो ? युवक ने कहा, “हां! मैं रमेश हूं और इस कंपनी में नौकरी के लिए interview  देने आया हूं। तुम यहां कैसे हैं?

विकाश ने कहा, “नहीं! मैं interview के लिए नहीं आया हूं, बल्कि interview लेने के लिए आया हूं क्योंकि मैं इस कंपनी का मालिक हूं।

रमेश की आंखें तुरंत झपक गई। माहौल शांत हो गया। वह मन में सोचने लगा कि आज जिस आदमी का मैं मजाक उड़ाता था, वह इतनी बड़ी कंपनी का मालिक बन गया?

अब रमेश को देखते हुए विकाश ने कहा, “यदि आप interview  के लिए आए हैं, तो हमारे बोर्ड के लोग आपका interview  अवश्य लेंगे।”

अब बोर्ड के अन्य लोगों ने रमेश interview  लेना शुरू कर दिया। 5 मिनट के बाद, बोर्ड के लोगों ने रमेशको अस्वीकार कर दिया और कहा, “आपके पास जो डिग्री है, यह दर्शाता है कि आपका छात्र जीवन बहुत कमजोर रहा है और आपके पास कोई नौकरी का अनुभव नहीं है, इसलिए हम आपको नौकरी नहीं दे सकते। “

रमेश तुरंत विकाश की ओर बढ़े और विकाश के सामने रोते हुए कहा, “मैं पिछले तीन वर्षों से नौकरी के लिए संघर्ष कर रहा था। मैंने कई कंपनियों में  interview  दिया  है, लेकिन हर जगह अस्वीकृति हुई है। आप मेरे दोस्त रहे हैं, कृपया मुझे नौकरी पर रखें।

विकाश ने कुछ देर सोचा और कहा, “मेरी कंपनी की सफलता का राज यह है कि मेरे ऑफिस  काम करने वाले लोग तुमसे ज्यदा बेस्ट हैं। मैं नहीं चाहता कि कोई उनके बीच पहुंचे जो उन्हें खाली बैठने और मज़े करने के लिए प्रेरित करे। इसलिए मैं तुम्हें नौकरी पर नहीं रख सकता। “

बहुत दुखी होकर, रमेश ने कहा, “तो मुझे अब कोई नौकरी नहीं मिलेगी? क्या मैं जीवन भर ऐसे ही संघर्ष करता रहूंगा?”

फिर विकाश ने हल्की मुस्कान के साथ कहा, “यह जीवन का सच है मेरे दोस्त!” मैंने अपने छात्र जीवन में बहुत संघर्ष किया ताकि मैं अपना पूरा जीवन खुशी और खुशी से बिता सकूं और एक सफल व्यक्ति कहलाऊं। और आपने अपना छात्र जीवन मज़े और खेल में बिताया। नतीजा आपके सामने है। अब आपको जीवन भर संघर्ष करना है। मुझे वही मिल रहा है जो तुमने  चुना है वह मिल रहा है।

तब रमेश वहाँ से उठा और ऐसे चला गया जैसे उसने अपने पूरे जीवन के लिए लड़ने का संकल्प कर लिया हो।

इसी लिए मेरे दोस्तों अज और अभी से अच्छे से पढना सुरु कर दो और सक्सेस होने के बाद लाइफ में खूब मौज मस्ती करो,

अगर कहानी आप को अच्च्ची लगी हो तो हमें कमेंट करके जरुर बताये, और अगर आप के पास कुछ मोतिवतिओनल स्टोरीहो तो आप हमें मेल justfindsall@gmail.com सकते है हम उसे जरुर पब्लिश करे गे।

About the author

Just Finds

View all posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *